1 min read

भिलाई : उपायुक्त नरेन्द्र बंजारे ने कहा-सही समय-सीमा में शासन की योजनाओं को निचले व्यक्ति तक पहुंचाना मेरी प्रमुखता रहेगी

भिलाई :  भिलाई नगर पालिक निगम के नवनियुक्त उपायुक्त नरेंद्र कुमार बंजारे ने एक मिडिया साक्षात्कार में कहा-मैं दिव्यांग हूं, मेरी दिव्यांगता के कारण टीचर ने मुझे मैथ्स, फिजिक्स और केमिस्ट्री लेकर पढऩे के लिए मना किया गया था। टीचर ने मुझे कहा कि लैब अटेंड करने में बहुत दिक्कत होगी लेकिन मैंने अपने जिद से मैथ्स लिया और आज यहां तक पहुंचा हूं। कक्षा दसवीं में मैं टॉप 5 में रहा और यही मेरी जीवन का टर्निंग पॉइंट रहा।

वहीँ मिडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उपायुक्त नरेंद्र बंजारे की प्रारंभिक शिक्षा बलौदाबाजार जिले के पलारी ब्लॉक के बलौदी ग्राम के शासकीय स्कूल में हुआ। मिडिल क्लास से हायर सेकेंडरी तक की शिक्षा इन्होंने पलारी के शासकीय स्कूल से पूरा किया।
वर्ष 2006 में इन्होंने चौकसे इंजीनियरिंग कॉलेज, बिलासपुर से कंप्यूटर साइंस में बीई (आनर्स) की डिग्री हासिल किया।

साफ्टवेयर कम्पनी में जॉब के लिए इनका चयन हुआ और यह पुणे और बंगलोर में सॉफ्टर इंजीनियर के पद पर एक वर्ष तक अपनी सेवाएं दी। वर्ष 2008 के सीजीपीएससी में इन्होंने भाग लिया और इंटरव्यू तक पहुंचे। वर्ष 2010 के सीजीपीएससी में इनका चयन मुख्य नगर पालिका अधिकारी, क्लास-2 के लिए हुआ।

ट्रेनिंग परेड में छह माह तक इन्होंने नगर पंचायत, लवन (बलौदाबाजार) के सीएमओ के पद पर रहे। अक्टूबर 2014 से अक्टूबर 2016 तक इन्होंने क्षेत्रीय कार्यालय, रायपुर में सहायक संचालक के पद पर अपनी सेवाएं दी। नवम्बर 2016 से सितंबर 2017 तक इन्होंने नगर पंचायत, कुरा (धरसींवा) में सीएमओ के पद पर अपनी सेवाएं दी। सितंबर 2017 से फरवरी 2019 तक नगर पंचायत, पिथौरा (महासमुंद) के सीएमओ के पद पर अपनी सेवाएं दी।

मार्च 2019 से फरवरी 2021 तक नगर पालिक निगम, रायपुर में राजस्व अधिकारी एवं रजिस्ट्रार के पद पर अपनी सेवाएं दी। फरवरी 2021 में राज्य सरकार ने इन्हें नगर पालिका निगम, भिलाई के उपायुक्त की जिम्मेदारी सौंपी है। क्र्रिकेट मैच देखने, न्यूज़ देखने तथा लेख लिखने में विशेष रुचि रखने वाले उपायुक्त नरेंद्र बंजारे अपनी पिताजी को अपना आदर्श मानते है।

उपायुक्त नरेंद्र बंजारे ने बताया कि बीएससी फस्र्ट ईयर पास होने के बाद मैं बीएससी छोड़कर इंजीनियरिंग करने गया था। गांव से होने के कारण इंजीनियरिंग की इंग्लिश ज्यादा समझ नही आती थी, तो मैंने पिताजी को लेटर लिखा कि बिलासपुर आकर मुझे ले जाइये, मैं वापस से बीएससी करूंगा। मेरे उस लेटर के जवाब में मेरे पिताजी ने ऐसा प्रेरणादायक लेटर लिखा कि मैं इंजीनियरिंग (बीई) आनर्स डिग्री से पास किया। पिताजी का वह लेटर आज तक संभालकर रखा हु। मेरे पिताजी पोस्टमैन थे और अब वह रिटायर्ड हो चुके है। शुरू से टीचर्स, दोस्तो और परिवार का बहुत सहयोग रहा, उन सभी के सहयोग से आज यह मुकाम हासिल कर पाया हूं। उपायुक्त नरेन्द्र बंजारे ने कहा कि काम करने का उद्देश्य यही रहा कि शासन की योजनाओं को प्रमुखता से क्रियान्वयन कर निचले स्तर के लोगो तक इसका लाभ पहुंचा सकू, इन्हीं योजनाओं को लेकर काम करता हु। सही समय सीमा में शासन की योजनाओं को निचले व्यक्ति तक पहुंचाना मेरी प्रमुखता रहती है और आगे भी रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *