1 min read

मनुष्य अच्छे-बुरे सुख-दुख के भोग होते हैं, वह उसके कर्म अनुसार होते है,,जगतगुरु नरेंद्राचार्य महाराज ने लाखों लोगों को व्यसन से मुक्ति दिलाई…

*स्वामी नरेंद्राचार्य जी महाराज का एक दिवसीय प्रवचन दर्शन एवं समस्या मार्गदर्शन का कार्यक्रम….*

*आज के इस असुरक्षित विश्व में मार्गदर्शन के दृढ़ आधार की आवश्यकता है-जगतगुरू रामानंदाचार्य*

*स्वामी नरेंद्राचार्य जी महाराज एक अवतारी पुरुष हैं, जिनकी वाणी, स्पर्श व सानिध्य में शक्ति है*

*आज के इस असुरक्षित विश्व में मार्गदर्शन के दृढ़ आधार की आवश्यकता है-स्वामी नरेंद्राचार्य जी महाराज*

*रायपुर:-* जगतगुरू रामानंदाचार्य स्वामी नरेंद्राचार्य जी महाराज दक्षिणपीठ ननीज धाम जिला रत्नागिरी महाराष्ट्र के रामानंदाचार्य पीठाधीश्वर हैं। स्वामी नरेंद्राचार्य जी महाराज एक अवतारी पुरुष हैं, जिनकी वाणी, स्पर्श व सानिध्य में शक्ति है। आपका जन्म एवं अवतार कार्य सनातन हिंदू धर्म भारतीय संस्कृति के रक्षण एवं हिंदू धर्म को विश्व में श्रेष्ठता के शिखर पर पहुंचाने के लिए हुआ है । महाराज जी द्वारा जहां एक ओर जन-जन में धर्म का अलख जगाया जा रहा है, वहीं अंध श्रद्धा निर्मूलन का कार्य भी किया जा रहा है ।
एक ओर जहां एक गृहस्थ को एक छोटे से मंत्र के माध्यम से मोक्ष का मार्ग बताते हैं, वहीं भटकते हुए लोगों को भक्ति मार्ग बताते हुए आर्थिक मानसिक एवं शारीरिक समस्याओं के समाधान हेतु मार्गदर्शन करते हैं । स्वामी जी द्वारा न केवल आध्यात्मिक बल्कि मानव मात्र के लिए सामाजिक कर्तव्यों का भी निर्वहन किया जा रहा है। स्वामी जी कहते हैं कि सभी प्राणी मात्र में एक ही ईश्वर का अस्तित्व होता है, वह सर्वव्यापी है, वह सभी प्राणियों की अंतरात्मा है, जो जो घटित होता है वह उस प्राणी का कर्म है। सभी प्राणियों में वह वास करता है, वह चित्तस्वरूपी होकर निर्गुण है, मनुष्य मात्र के जो अच्छे व बुरे सुख-दुख के भोग होते हैं, वह उसके कर्म अनुसार उसे प्राप्त होते हैं। विश्व के व्यवहार में ईश्वर सहभागी नहीं होता। वह तटस्थ रहता है, सब कुछ उसके कर्म अनुसार घटित होता है। प्रत्येक व्यक्ति को संचित प्रारब्ध के अनुसार सुख दुख प्राप्त होता रहता है। आज के इस असुरक्षित विश्व में मार्गदर्शन के दृढ़ आधार की आवश्यकता है। आप कहीं भी रहें , चाहे अफ्रीका के घने जंगल में अथवा किसी महासागर में कहीं भी हो मैं सदैव तुम्हारे साथ हूं। आप मुझे भक्ति दें मैं आपको स्थैर्य दूंगा।
स्वामी जी का दो ही मूल मंत्र है कि, तुम जियो और दूसरों को जीने में सहायता करो तथा सपने में भी किसी के प्रति बुरा मत सोचो । तुम्हारा कल्याण होगा ।
जगतगुरु नरेंद्राचार्य जी महाराज ने लाखों लोगों को व्यसन से मुक्ति दिलाई है। जगतगुरु श्री नरेंद्राचार्य जी महाराज के मार्गदर्शन पर चलकर संपूर्ण भारत में लाखों लोगों ने लाभ प्राप्त किया है ।
पूरी मानव जाति को प्रेम सद्भावना दया एवं शांति का संदेश देने वाले तथा हर व्यक्ति के मन में अध्यात्म व सात्विकता की ज्योति जलाने वाले जगतगुरु नरेंद्राचार्य जी महाराज आने वाले वर्षों में पूरे विश्व का मार्गदर्शन करने वाले धर्मगुरु होंगे तथा उनका स्व स्वरूप संप्रदाय सारे विश्व मैं अग्रणी होगा। पीठाधीश्वर जगतगुरु नरेंद्राचार्य जी महाराज द्वारा अपने श्रीमुख से प्रवचन करने व समस्या मार्गदर्शन करने का सौभाग्य देने स्वामी नरेंद्राचार्य जी महाराज का एक दिवसीय प्रवचन दर्शन एवं समस्या मार्गदर्शन का कार्यक्रम दिनांक 1 अक्टूबर 2023 दिन रविवार को कृषि उपज मंडी परिसर डोंगरगांव जिला राजनांदगांव छत्तीसगढ़ में आयोजित है। इस दिव्य भव्य आयोजन में सहभागी बनकर दर्शन लाभ लेने का स्वर्ण अवसर को हाथ से जाने ना दे । अधिक से अधिक संख्या में पधार कर दर्शन लाभ प्राप्त करें।
प्रवचन दर्शन एवं समस्या मार्गदर्शन कार्यक्रम निशुल्क है। समस्या मार्गदर्शन पर्ची कार्यक्रम स्थल डोंगरगांव में कार्यक्रम दिनांक 1 अक्टूबर 2023 को सुबह 7:00 से 8:00 बजे के बीच निशुल्क वितरित की जावेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *