1 min read

राहुल या नीतीश नहीं, खड़गे हो सकते हैं INDIA गठबंधन के PM कैंडिडेट, सोनिय गांधी ने दिए संकेत

नई दिल्ली। पांच राज्यों के चुनाव आज संपन्न होने वाले हैं। तीन दिसंबर को नतीजे घोषित किए जाएंगे। इसके बाद लोकसभा चुनाव की तैयारी में सभी पार्टियां जुट जाएंगी। भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेतृत्व वाले एनडीए गठबंधन नरेंद्र मोदी की अगुवाई में 2024 का लोकसभा चुनाव लड़ने के लिए तैयार है। वहीं, विपक्षी इंडिया गठबंधन ने अभी तक इसको लेकर कोई फैसला नहीं किया है। विपक्ष की तरफ से पीएम कैंडिडेट के लिए राहुल गांधी और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का नाम सामने आ रहा था। लेकिन, इस बीच सोनिया गांधी ने खड़गे को बड़ी जिम्मेदारी सौंपने के संकेत दिए हैं।

पूर्व कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी सहित प्रमुख विपक्षी नेताओं ने 2024 के लोकसभा चुनाव में मल्लिकार्जुन खड़गे के लिए बड़ी भूमिका की वकालत की है। नई दिल्ली में कांग्रेस अध्यक्ष पर लिखी किताब “Mallikarjun Kharge: Political Engagement with Compassion, Justice, and Inclusive Development” के मौके पर यह बात सामने निकलकर आई है। इस दौरान विपक्षी नेताओं ने इंडिया गठबंधन की एकता को मजबूत करने का भी संकल्प लिया। कुछ लोगों ने यह विचार व्यक्त किया कि खड़गे को इस गुट का नेतृत्व करना चाहिए। पांच विधानसभा चुनावों के नतीजे आने से कुछ दिन पहले सोनिया गांधी ने कहा कि खड़गे भारत की आत्मा के लिए इस ऐतिहासिक लड़ाई में कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व करने के लिए सबसे उपयुक्त हैं।

अपने भाषण में सोनिया गांधी ने खड़गे की प्रतिबद्धता और विचारधारा की सराहना की। उन्होंने कहा, “उनका शानदार जीवन और कार्य उन मूल्यों का उदाहरण है जो आधुनिक भारत के संस्थापकों और वास्तुकारों ने अपनाए। अदम्य भारतीय भावना का प्रतीक होकर उन्होंने अपनी लंबी यात्रा में कई विपरीत परिस्थितियों का सामना किया।

आपको बता दें कि 81 वर्षीय मल्लिकार्जुन खड़गे को पिछले साल 26 अक्टूबर को कांग्रेस का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया था। उनके शासन में कांग्रेस पार्टी ने कर्नाटक और हिमाचल प्रदेश में दो विधानसभा चुनाव जीते हैं। इसके अलावा इंडिया गठबंधन के बैनर तले कम से कम 27 पार्टियों को साथ लाने में सफल रहे हैं। इन सभी दलों ने 2024 में लोकसभा चुनाव साथ लड़ने का संकल्प लिया है।

खड़गे ने अपने भाषण में कहा, ”लोकतंत्र और संविधान के कारण मैं एक सामान्य कार्यकर्ता से इस पद तक पहुंच सका। आज संविधान और संसदीय लोकतंत्र दोनों खतरे में हैं। सत्ता में बैठे लोग संविधान में विश्वास नहीं करते है।” उन्होंने कहा है कि वे इसे बदलने और अपना संविधान लाने के लिए सही समय का इंतजार कर रहे हैं।

सोनिया गांधी ने कहा, “उन्होंने दृढ़ साहस, अटूट दयालुता और तीक्ष्ण बुद्धि के साथ मेरे कई बोझों को साझा किया है। आज वह एक महत्वपूर्ण मोड़ पर कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व कर रहे हैं। सत्ता में बैठे लोग संवैधानिक और संस्थागत मूल्यों से बेपरवाह हैं। उन सभी संस्थानों, प्रणालियों और सिद्धांतों को नष्ट कर रहे हैं जिनके द्वारा भारत आजादी के बाद से फला-फूला है। एक मजबूत संगठनात्मक नेता के रूप में मल्लिकार्जुन खड़गे भारत की आत्मा के लिए इस ऐतिहासिक लड़ाई में कांग्रेस पार्टी का नेतृत्व करने के लिए सबसे उपयुक्त हैं। इसमें उन्हें मेरा और कांग्रेस पार्टी का दृढ़ समर्थन प्राप्त है।”

सोनिया गांधी से पहले कांग्रेस के सबसे पुराने सहयोगियों में से एक द्रमुक के टीआर बालू ने कहा, “यह अधिक महत्वपूर्ण है कि इंडिया गठबंधन के सबसे वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे बिना किसी समस्या के पार्टियों का एक साथ नेतृत्व करें ताकि हम 2024 का चुनाव जीत सकते हैं।”

वहीं, राजद के राज्यसभा नेता मनोज झा ने कांग्रेस विधायक अभिषेक मनु सिंघवी की भविष्यवाणी का हवाला देते हुए कहा कि खड़गे के लिए अभी तक कोई परिणति नहीं हुई है। वहीं, सीपीआईएम के सीताराम येचुरी ने कहा कि खड़गे पर बड़ी जिम्मेदारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *