1 min read

प्रधानमंत्री का पूरे देश मे टीका उत्सव मनाने का आह्वान, लेकिन छत्तीसगढ़ में वैक्सीन की उपलब्धता ही नहीं : कोमल हुपेंडी

रायपुर : आम आदमी पार्टी प्रदेश अध्यक्ष कोमल हुपेंडी ने आज केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि जिस प्रकार केंद्र सरकार काम कर रही है उससे ये साबित होता है कि देश व देश की जनता से उनका कोई सरोकार नही है ,जब 2020 में कोरोना ने अपना प्रकोप दिखाया था उस वक्त भी केंद्र सरकार मध्यप्रदेश में चुनाव व अमेरिकी राष्ट्रपति की सेवा में लगी थी और देश को कोरोना के हवाले कर दिया था, ठीक आज उसी प्रकार दोबारा देश कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहा है परंतु देश के प्रधानमंत्री जी व पूरा केंद्रीय मंत्री मंडल व भाजपा बंगाल चुनाव में व्यस्त है ।

मुख्यमंत्रीयो के साथ चर्चा के दौरान प्रधनमंत्री ने कहा था कि 11 अप्रैल 2021 को ज्योतिबा फूलों जयंती से 14 अप्रैल 2021 के अम्बेडकर जयंती तक “टीका उत्सव” मनाया जाय लेकिन बगैर वैक्सीन ये कैसे संभव होगा यह नही बता पाए कोमल हुपेंडी ने कहा कि शायद प्रधानमंत्री जी ने कोरोना महामारी के बयानों को भी चुनावी बयान समझ रखा है व सिर्फ बयानबाजी तक सीमित है।

आज पूरा देश वैक्सीन की आपूर्ति से दो चार हो रहा है यदि जल्द इस वैक्सीन की कमी को पूरा नही किया तो कोरोना से हो रही मौतों का सिलसिला कम नही होगा , कोमल हुपेंडी ने विज्ञप्ति के माध्यम से केंद्र व राज्य सरकार से आग्रह किया है कि जिस प्रकार जनता ने आप पर भरोसा कर सत्ता सौपी है तो जनता के हितों व जान की हिफाजत आपकी पहली प्राथमिकता होनी चाहिए , जल्द से जल्द सभी के लिए वैक्सीन की उपलब्धता को आसान बनाते हुए, वैक्सीन के कमी की समस्या हल किया जाना चाहिए, व छत्तीसगढ़ वासियों को इस गम्भीर अवस्था से बचाना होगा।

जायसवाल ने कहा कि कोरोना में उपयोगी रेमडेसिविर इंजेक्शन की कमी से देश के और भी प्रदेश जूझ रहे है लेकिन वँहा इन्जेक्शन के लिए इतनी भयावह स्थिति नही है लेकिन छत्तीसगढ़ में कोरोना मरीजो के परिजन मेडिकल स्टोर्स के चक्कर लगा-लगा कर थक चुके है व अत्यधिक परेशान है वे इसे अधिक दाम पर खरीदने को भी तैयार है लेकिन फिर भी उन्हें यह उपलब्ध नही है इसकी जानकारी सरकार को है भी या नही जल्द इस ओर सरकार ध्यान दे अन्यथा गंभीर मरीजो की स्थिति बिगड़ सकती है व इसकी आपूर्ति सुनिश्चित करें व जनता को साफ साफ मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बताये की इसकी आपूर्ति के लिए सरकार द्वारा क्या क्या प्रयास किये गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *